छत्तीगढ़ के सारे प्राइवेट अस्पताल सरकार ने अपने कंट्रोल में लिए

रवि रौणखर, जालंधर
7696310022

छत्तीसगढ़ से बड़ी खबर आ रही है। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते सरकार ने सारे प्राइवेट अस्पतालों को अपने कब्जे में ले लिया है। अब राज्य के सभी प्राइवेट मेडिकल कालेज, अस्पताल, नर्सिंग होम, उनके डॉक्टर, नर्स और समस्त स्टाफ सरकार के अधीन काम करेगा। छत्तीसगढ़ के 27 जिलों के सैकंड़ों प्राइवेट अस्पताल, नर्सिंग होम का सरकार ने अधीग्रहण कर लिया है।

एक बड़े अस्पताल का खर्च करोड़ों में

जालंधर की ही बात करें तो यहां एक 100 बेड अस्पताल का महीने का खर्च कम से कम 2 करोड़ बैठता है। ऐसे में सैकड़ों अस्पतालों का जब अधिग्रहण होगा तब उन्हें फंड कहां से मिलेगा। पंजाब सरकार ने हालांकि 150 करोड़ मांगे थे लेकिन केंद्र सरकार ने पांच गुणा राशि जारी कर दी।

All private hospitals acquired by govt in India

क्या पंजाब के प्राइवेट अस्पताल भी सरकार कब्जे में लेने जा रही है

भारत में कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा पंजाब को है। विदेश से भारत में लैंड करने वालों में सबसे ज्यादा गिनती पंजाबियों की है। वहीं पंजाब में प्राइवेट अस्पतालों की गिनती भी अच्छी खासी है। साथ ही यहां के सरकारी अस्पतालों के खस्ताहाल भी किसी से छिपे नहीं हैं। तो क्या अब कैप्टन अमरिंदर सिंह कोई अध्यादेश जारी करके पंजाब के प्राइवेट अस्पतालों को एक्वायर कर लेंगे।

एक सरकारी बाबू या सरकारी डॉक्टर अस्पताल में नोडल अफसर की तरह काम करेगा

जानकारों के मुताबिक सरकार का एक अधिकारी प्रत्येक प्राइवेट अस्पताल में नोडल अफसर की तरह तैनात किया जाएगा। क्योंकि प्राइवेट अस्पताल का स्टाफ, सामान और सारे डॉक्टर सरकार के अधीन काम करेंगे इसलिए उन्हें नोडल अधिकारी के अधीन काम करना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *