आलोचना के बाद पटेल अस्पताल ने कोरोना संदिग्ध मरीज दाखिल किया

सिविल में 100 से ज्यादा की स्क्रीनिंग, 70 एनआरआईज, तीन के सैंपल लिए, तीन दाखिल

रवि रौणखर, जालंधर

आखिरकार प्राइवेट अस्पतालों ने कोरोना संदिग्ध मरीज लेने शुरू कर दिए हैं। शनिवार को सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड और फ्लू कॉर्नर में 100 से ज्यादा लोगों की जांच हुई जिसमें 70 के करीब एनआरआई या विदेश से यात्रा करके लौटे लोग थे। इनमें से 3 लोगों को एतिहातन आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें दो महिलाएं और एक युवक है। तीनों को कोरोना के हल्के लक्षणों के चलते सैंपल लेकर दाखिल कर दिया गया। एक के परिजनों ने पटेल अस्पताल से संपर्क किया। अस्पताल ने उसे दाखिल करने के लिए हामी भर दी है। पंजाब में शनिवार शाम तक 13 मरीजों की पुष्टि हो चुकी थी। जबकि भारत में आंकड़ा 300 पार कर गया है। दुनिया में कोरोना से अब तक 300,227 लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 12,948 की मौत हो चुकी है। भारत में 5, इटली में 5000 और चीन में 3255 की जान यह वायरस ले चुका है।

सिविल अस्पताल के फ्लू कॉर्नर में डॉक्टर एक महिला का एक्स-रे चैक करते हुए। महिला को सांस लेने में तक्लीफ हो रही थी। वह पिछले दिनों शिरडी साईं बाबा के यहां माथा टेकने गई थी।

पटेल अस्पताल ने कोरोना का संदिग्ध मरीज दाखिल किया

पंजाब में कोरोना वायरस से जान गंवाने वाला मरीज पिछले दिनों जब पटेल अस्पताल आया था तब उसे अस्पताल में दाखिला नहीं मिला था। अगले दिन उसकी मौत हो गई थी। अब पटेल अस्पताल ने कोरोना के संदिग्ध मरीज को दाखिल करके संकेत दिए हैं कि वह कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए आगे आएगा। इससे पहले प्राइवेट अस्पतालों की ओर से फीका रिस्पोंस मिलने के बाद से प्रशासन भी सकते में था।

सिविल के आइसोलेशन वार्ड के बंदोबस्त से असंतुष्ट था परिवार, बेटे को पटेल रेफर करवाया

18 साल के जिस नौजवान को पटेल अस्पताल दाखिल कराया गया है वह पहले सिविल अस्पताल आया था। सरकार अब हर उस व्यक्ति को स्क्रीनिंग कर रही है जो पिछले दिनों विदेश यात्रा से आया है। ऐसे में शहीद उधम सिंह नगर का यह नौजवान जब सिविल आया तो डॉक्टरों को उसमें कुछ लक्षण दिखाई दिए। उसे ट्रामा सेंटर में बने आइसोलेशन वार्ड में रख दिया गया। मगर जब पिता ने देखा कि पास का मरीज जोर जोर से खांस रहा है और सुविधा भी उतनी अच्छी नहीं है तो पिता ने पटेल अस्पताल के डॉक्टरों से संपर्क किया। अस्पताल ने अपनी एंबुलेंस भेज दी।

इस तरह से पहले कोरोना संदिग्ध का इलाज करने से मना करने वाले पटेल अस्पताल ने आलोचना के बाद मरीज देखने शुरू कर दिए हैं। पटेल अस्पताल शहर के प्रतिष्ठित प्राइवेट अस्पतालों में शुमार है। मगर जिस तरह से कोरोना मृतक बलदेव सिंह को अस्पताल ने यह कहकर सिविल रेफर कर दिया था कि उनके पास वेंटिलेटर नहीं है हमें इटली की याद दिलाता है। जहां बुजुर्गों को वेंटिलेटर स्पोर्ट की जरुरत होने पर भी मरने के लिए छोड़ दिया जा रहा है। अब सिविल से जब मरीज पटेल रेफर हुआ है तो यह समझा जा सकता है कि प्राइवेट अस्पतालों को भी अपना रोल अदा करने की जरुरत है। फिलहाल 18 साल का युवक और बाकी दोनों महिलाएं स्वस्थ हैं और किसी तरह की कोई गंभीर बात नहीं है।

देश में मरीजों का आंकड़ा 300 पार

क्रमांकराज्य का नामभारतीय मरीजविदेशी मरीजठीक हुए लोगमौतें
1आंध्र प्रदेश3000
2छत्तीसगढ़1000
3दिल्ली25151
4गुजरात8000
5हरियाणा61400
6हिमाचल प्रदेश2000
7कर्नाटक15011
8केरल45730
9मध्यप्रदेश4000
10महाराष्ट्र61301
11ओडिशा2000
12गुडुचेरी1000
13पंजाब13001
14राजस्थान23230
15तमिलनाडु3310
16तेलंगाना101110
17चंडीगढ़1000
18जम्मू कश्मीर4000
19लद्दाख13000
20उत्तर प्रदेश23190
21उत्तराखंड3000
22बंगाल3000
      
कुल मरीज (269+42=311) 26942234
कोरोना में खास
9 राज्य और 4 केंद्र शासित प्रदेशों में जीरो कोरोना
राज्यः बिहार, सिक्किम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा, गोआ, अरुणाचल प्रदेश, असम

केंद्र शासित प्रदेशः दमन दीव, अंडमान निकोबार, लक्षद्वीप,  दादर एवं नगर हवेली,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *