एक हफ्ते में ही कोरोना वायरस 13 चीनी राज्यों और 332 लोगों से 30 राज्यों, 18 देशों और 4474 लोगों तक पहुंच गया था, दूसरे हफ्ते तक 20708 मरीज सामने आए

4 फरवरी तक दुनिया भर के 27 देशों में 20708 मरीज रिपोर्ट हो चुके हैं

रवि रौणखर, जालंधर

कोरोना वायरस तेजी से दुनिया में फैल रहा है। 22 जनवरी को जब इस वायरस की रिपोर्टिंग शुरू हुई तब यह चीन के 13 राज्यों तक ही सीमित था। उस दिन चीन में 332 लोग इस जानलेवा वायरस से संक्रमित हो चुके थे। मगर एक हफ्ते के अंदर अंदर यह वायरस दुनिया भर में मिलने लगा। एक हफ्ते बाद ही इस वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा चीन के 13 राज्यों से 30 राज्यों तक पहुंच चुका था। चीन के अलावा 17 अन्य देशों में भी कोरोनो वायरस के मरीज मिलने लगे। सिर्फ एक हफ्ते में मरीजों की गिनती 4474 तक पहुंच चुकी थी। सात दिन में 13 गुणा। मगर दो हफ्तों में यह आंकड़ा और खतरनाक दिखने लगा है। 4 फरवरी तक इस वायरस के शिकार लोगों की गिनती 20708 पहुंच चुकी है। चीन में 20493 और दुनिया के अन्य देशों में इसके 215 मरीज रिपोर्ट हुए हैं। 4 फरवरी दोपहर तक वायरस से मरने वालों की संख्या 427 बताई जा रही थी। जबकि 2700 से ज्यादा मरीज वेंटिलेटर और गंभीर हालत में अस्पतालों में भर्ती हैं।

Corona Virus Masks
चीन पर आपदा बनकर बरसा है कोरोना वायरस

30 जनवरी को विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को ग्लोबल पब्लिक हेल्थ एमरजेंसी का दर्जा दे दिया था।

27 देशों में कोरोनो वायरस का ब्यौरा, थाईलैंड दूसरे नंबर पर

देशकुल मरीज4 फरवरी को सामने आए मामलेकुल मौतें4 फरवरी को हुई मौतेंकुल मरीज ठीक हुएसीरियस
चीन20,49355425 7662,788
थाईलैंड256  71
सिंगापुर246  1 
जापान233    
हांगकांग17211  
दक्षिण कोरिया161    
ऑस्ट्रेलिया131  3 
जर्मनी12     
ताईवान111    
अमेरिका11     
मलेशिया102    
मकाउ102    
वियतनाम102  3 
फ्रांस6    1
यूएई5     
कैनेडा4     
भारत3     
फिलिपींस2 1   
रूस2     
इटली2    2
यूके2     
फिनलैंड1     
कंबोडिया1     
नेपाल1     
श्रीलंका1   1 
स्वीडन1     
बेल्जियम11    
स्पेन1     
20,7088242717812,792

भारत के सभी केस केरल से रिपोर्ट हुए

corona-virus
भारत के सभी कोरोना वायरस के मरीज केरल से रिपोर्ट हुए हैं (ग्राफिक्सः इंडिया टुडे)

कोरोना वायरस के लक्षणः

कोरोना वायरस के लक्षण बेहद आम जुकाम या फ्लू जैसे ही दिखते हैं। इसके शुरुआती लक्षणों में सांस लेने में थोड़ी तकलीफ़, खांसी या फिर बहती हुई नाक शामिल है। मगर कोरोना परिवार के कुछ वायरस बेहद ख़तरनाक़ होते हैं जैसे सार्स (सिवियर एक्यूट रेसपिरेटरी सिंड्रोम) और मर्स (मिडल ईस्ट रेसपिरेटरी सिंड्रोम)।

doctor dies after-treating-patients-with-coronavirus
चीन में मरीजों के इलाज के लिए डॉक्टर और स्टाफ अपनी जान जोखिम में डाल रहा है। एक डॉक्टर की मौत भी रिपोर्ट हो चुकी है।

चीन के प्रांत वुहान से शुरू हुई इस महामारी के लिए जिम्मेदार वायरस को नॉवेल कोरोना वायरस या nCoV का नाम दिया गया है। मालूम पड़ता है कि ये कोरोना परिवार की एक नई नस्ल है जिसकी पहचान अभी तक इंसानों में नहीं हो पाई थी।

पहले हफ्ते बुखार और खांसी

कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में ऐसा लगता है कि इसकी शुरुआत बुखार से होती है और फिर उसके बाद सूखी खांसी का हमला होता है। हफ़्ते भर तक ऐसी ही स्थिति रही तो सांस की तकलीफ़ शुरू हो जाती है जो कि बाद में गंभीर रूप धारण करने लगती है।

पहले से बीमार लोगों के लिए ज्यादा खतरा

लेकिन गंभीर मामलों में ये संक्रमण निमोनिया या सार्स बन जाता है। किडनी फेल होने की स्थिति बन जाती है और मरीज़ की मौत तक हो सकती है। कोरोना के ज़्यादातर मरीज़ उम्रदराज़ लोग हैं, ख़ासकर वो जो पहले से ही पार्किंसन या डायबिटिज़ जैसी बीमारियों से जूझ रहे हों।

खतरा कैसे कम करें

Corona Virus alert

3 thoughts on “एक हफ्ते में ही कोरोना वायरस 13 चीनी राज्यों और 332 लोगों से 30 राज्यों, 18 देशों और 4474 लोगों तक पहुंच गया था, दूसरे हफ्ते तक 20708 मरीज सामने आए

  • 05/02/2020 at 8:06 pm
    Permalink

    So nice reporting with useful data, syotoms detail and precautions.

    Thanks Dr Ravi Ji.

    Love it

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *