डॉक्टर ने कहा मुझे ही सेनिटाइजर नहीं मिला तो जनता को क्या मिलेगा, डीसी बोले कालाबाजारी करने वाले नहीं हटे तो सामान दुकानों से बाहर निकाल लाएंगे

मास्क और सेनिटाइजर की कालाबाजीर करने वालों के खिलाफ प्रशासन सख्त

डीसी ने आईएमए, कैमिस्ट ऑर्गेनाइजेशन और करियाना व्यापारियों के साथ मीटिंग की

रवि रौणखर, जालंधर

डीसी ने शनिवार को लोकडाउन के आदेश दे दिए। यानी घर का एक व्यक्ति बेहद जरुरी काम होने पर ही घर से बाहर निकल सकता है। सारे कमर्शियल संस्थान बंद रहेंगे। दूध, खाने पीने का राशन और दवा की सप्लाई बाधित नहीं होगी। सिर्फ एमरजेंसी वाहन ही शहर से बाहर जा पाएंगे। कोरोना (COVID-19) को चीन ने लॉकडाउन के दम पर ही हराया है। इस बीमारी का इलाज नहीं है। इसे सिर्फ फैलने से रोककर ही मात दी जा सकती है। फैलने से रोकने के लिए मास्क और सेनिटाइजर बेहद कारगर हथियार हैं। अब इनकी कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ एक्शन होने शुरू हो गए हैं।

DC VK Sharma
पत्रकारों को लोक्ड डाउन की जानकारी देते डीसी वीके शर्मा, साथ में बैठे हैं सीपी भुल्लर, एसएसपी माहल

जालंधर या कहें पूरी दुनिया में ही कालाबाजारी और मुनाफाखोरी करने वाले इस आपदा का फायदा उठा रहे हैं। जालंधर में डीसी वीके शर्मा ने शनिवार शाम को दवा विक्रेता, डॉक्टरों की संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और करियायाना कारोबारियों के साथ एक मीटिंग की। मीटिंग में जब एक सीनियर डॉक्टर ने डीसी शर्मा से कहा कि वह दिलकुशा मार्केट में जब सेनिटाइजर की 50 बोतलें खरीदने के लिए गए तो उन्हें किसी ने सेनिटाइजर नहीं दिया। यह बोतलें सरकारी अस्पतालों को सप्लाई करनी थीं। हालात ऐसे बन गए हैं कि एक डॉक्टर और अधिकारी को ही दवा कारोबारी सेनिटाइजर बेचने के लिए राजी नहीं हो रहे।

मुझे सेनिटाइजर कंट्रोल दाम में बेचना पड़ना था जबकि मार्केट में वह मुंहमांगे दाम पर बेच रहे हैं। यही वजह है कि आम आदमी आज मुनाफाखोरों से परेशान है। डीसी शर्मा ने जब यह सुना तो उन्होंने साफ साफ कह दिया कि इस त्रासदी की घड़ी में ऐसा काम न करो कि बाद में मुंह छिपाना पड़े। जबकि आपदा में तो लोगों की मदद करने का अवसर है।

मैं रोज दर्जनों मीटिंग में रहता हूं, मुझे लग रहा है कि मैं ही अपने घर कोरोना न ले जाऊं

Corona cases in Punjab Jalandhar DC taking meeting

डीसी ने कहा कि इस घड़ी में कैमिस्ट, डॉक्टर और व्यापारी यह न सोच लें कि वह सुरक्षित हैं। अगर यह बीमारी फैलती है तो कोई भी सुरक्षित नहीं बचेगा। हमें यह सोचकर काम करना है कि कोरोना को रोकना सरकार का नहीं बल्कि आपके अपने घर का काम है। सुबह से शाम बैठकों के बाद कई बार सोचता हूं कि कहीं मैं ही कोरोना घर न ले जाऊं। हर कोई रिस्क पर है इसलिए इनसानियत के वास्ते सबकुछ भुलाकर कोरोना से मुकाबला करने के लिए तैयार हो जाओ।

अगर कालाबाजारी करने वाले नहीं रुके तो सामान बाहर खींच लाएंगे

Corona cases in Punjab Civil surgeon Jalandhar
मीटिंग में मौजूद सिविल सर्जन डॉ. गुरिंदर चावला, एसएमओ डॉ. रमन शर्मा

मीटिंग में मौजूद एक सदस्य का कहना था कि अगर कालाबाजारी करने वाले नहीं माने और मास्क व सेनिटाइजर के दाम कम नहीं किए तो हम उनके सामने उनकी दुकानों से सामान निकालकर यहां ले आएंगे। जनता भी देखेगी कि किसने हॉर्डिंग की है। डीसी शर्मा ने सख्ती से दवा विक्रेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि मुनाफाखोरी तुरंत बंद कर दो।

मास्क और सेनिटाइजर के रेट पहले से फिक्स हैं, उन्हें सख्ती से लागू करें

ये जो हल्के नीले रंग के तीन प्लाई वाले मास्क हैं उन्हें कोई भी 10 रुपए से ज्यादा दाम पर बेच नहीं सकता। इसलिए कहीं भी मास्क महंगे दाम पर बिक रहा है तो 104 नंबर पर भी शिकायत कर सकते हैं। 3 पलाई मास्क 10 , 2 प्लाई मास्क 8 रुपए प्रति पीस और 200 एमएल हैंड सेनिटाइजर की बोतल 100 रुपए में ही बेची जा सकती है। इन चीजों का कोई भी अधिक दाम ले तो उनके खिलाफ जरूरी चीजें कानून (Essential Commodities act) के तहत कार्रवाई की जा सकती है।

दवा विक्रेता

आईएमए ने कहा कोरोना मरीजों के लिए कुछ अस्पताल चिन्हित कर लिए जाएं

Corona cases in Punjab Jalandhar Distt
आईएमए के प्रधान (बाएं) डॉ. नवजोत दहिया

मीटिंग में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की ओर से कई पदाधिकारी मौजूद थे। पंजाब आईएमए के प्रधान डॉ. नवजोत दहिया ने कहा कि कुछ अस्पतालों को अगर चिन्हित कर लिया जाए तो उन्हें कोरोना मरीजों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। हर अस्पताल में अगर कोरोना मरीज आते हैं तो बाकी मरीजों के लिए खतरा पैदा हो सकता है। दिल, दिमाग और न जाने कितने गंभीर रोगों से पीड़ित मरीज इलाज की राह देख रहे हैं। ऐसे में उन मरीजों की जिंदगी भी जोखिम में पड़ जाएगी।

Corona cases in Punjab Jalandhar
डॉ. विकास सूद, डॉ. मुनीष सिंघल और डॉ. सुषमा चावला मीटिंग से पहले

4 thoughts on “डॉक्टर ने कहा मुझे ही सेनिटाइजर नहीं मिला तो जनता को क्या मिलेगा, डीसी बोले कालाबाजारी करने वाले नहीं हटे तो सामान दुकानों से बाहर निकाल लाएंगे

  • 22/03/2020 at 2:20 pm
    Permalink

    It is really inhuman for. Blackmarketeers to make huge profits in case of emergencies We can learn lesson from foreign countries who are fighting corona and helping people by giving them financial helpEven we see that vegetable rates karyana rates are hiked to make profits from this natural calamity Even chemists are charging higher prices for masks and sanitizer.God will not spare them.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *